जिन छात्रों के पास मोबाइल नहीं है वह स्वयं प्रभा चैनल के माध्यम से करे पढ़ाई ………जिला विद्यालय निरीक्षक

संवाददाता राधेश्याम गुप्ता

लाक डाउन के चलते बंद पड़े मा स्कूलों मे वर्चुअल कक्षाओं के माध्यम से शिक्षा,आनलाइन अध्यापन किया जा रहा हैै। इसके लिए माध्यमिक शिक्षा विभाग द्वारा प्रत्येक सप्ताह निर्धारित पाठ्यक्रम का टाईम टेबेल भेजा जाता हैै । उसी के अनुसार स्कूलो से विद्यार्थियों को शिक्षण देने का कार्य शुरु किया गया हैै.

उक्त आशय की जानकारी देते हुये प्रभारी डीआईओएस डा चंदन कुमार पाण्डेय ने बताया कि स्कूलो मे शुरु हुये इस नए अध्यापन विधि मे कई दिक्कतें भी आ रही हैै इससे निपटने के लिए कार्य किए जा रहे हैँ । आवश्यकतानुसार जनपद मे 9 नोडल अधिकारियों की तैनाती की गयी हैै । इनके साथ गूगल मीट के द्वारा बैठक कर कार्यों का विभाजन कर सभी विद्यार्थियों तक पंहुचने और लाभान्वित कराने का लक्ष्य दिया गया हैै। नोडल अधिकारियों ने सभी प्रधानाचार्यों से गूगल मीट से जुड़कर ऑनलाइन शिक्षा देने के तौर तरीकों पर चर्चा के बाद डीडी यूपी से कक्षा 10व12 तथा स्वयंप्रभा के चैनल नंबर 22 से कक्षा 9व11विद्यार्थियों को शिक्षा दिया जा रहा हैै । इसके लिए संबंधित को मीटिंग के माध्यम से बराबर निर्देशित भी किया जा रहा हैै । जनपद के मा स्कूलो मे इसके संचालन का कार्य हॊ रहा हैै ।

इसी क्रम मे दी जाने वाली शिक्षा की हकीकत जांचने के लिए जिविनि बलरामपुर डा. चंदन कुमार पाण्डेय ने गुरुवार को जनपद के एमड़ीके बालिका विद्यालय एवं बलरामपुर मॉडर्न स्कूल का दौरा कर वर्चुअल कक्षाओं के संचालन मे आने वाली दिक्कतों के बारे मे पूँछ कर समस्याओं का निदान किया एवं विद्यालय के शिक्षकों के साथ सोशल डिस्टेंसिंग के साथ मीटिंग कर कई अन्य टिप्स भी दिए । गुरुवार को डीआईओएस ने ई ज्ञान गंगा स्कूल ऐप एवं स्वयं प्रभा चैनल के बारे मे शिक्षकों से जानकारी ली। उन्होने कहा कि जनपद के विद्यालयों को 9 जोन मे पहले से ही बांट दिया गया हैै । हर जोन के लिए प्रशिक्षित शिक्षक या प्रधानाचार्य को नोडल अधिकारी नियुक्त कर प्रत्येक विद्यालय से जुड़कर वर्चुअल कक्षा संचालन की जिम्मेदारी दी गयी हैै । ई ज्ञान गंगा, स्वयंप्रभा एवं डीडी यूपी द्वारा शिक्षा देने का कार्य हॊ रहा हैै । हर सप्ताह के शिक्षण के लिए टाईम टेबल का निर्धारण किया जाता हैै । उसी के अनुसार शिक्षण भी शुरु कराया गया हैै ।इस वर्ष पाठ्यक्रम का 30%घटा दिया गया हैै । शिक्षकों के डायरी मे निर्धारित पाठ्यक्रम को दर्ज करा दिया गया हैै । इसका भी व्यापक प्रचार कराते हुए शिक्षण के लिए नोडल अधिकारियों को निर्देशित किया गया हैै । हर विद्यालयों मे ड्राप बाक्स बनाने के निर्देश दिए गऐ हैँ। जिसमें बच्चों के गृह कार्य एवं मासिक टेस्ट के अभिलेख जांच कर रखे जा सकें । साथ ही विद्यालय के प्रधानाचार्यों को भी निर्देशित किया गया हैै कि प्रत्येक दशा मे ड्राप बॉक्स मे प्राप्त कापियों का निरीक्षण कर ड्राप बॉक्स मे उपलब्ध कराया जाए । डीआईओएस ने बताया कि जबतक स्कूल नही खुल रहे हैँ तबतक बच्चों को स्वयंप्रभा , डीडी यू पी एवं ई ज्ञान गंगा चेनल व यू-ट्यूब से जोड़कर शिक्षा प्रदान करने पर पूरा बल दिया जा रहा हैै ।

साथ ही ये भी प्रयास किया जा रहा हैै कि हर बच्चे तक पंहुचा जाए एवं किसी ना किसी रूप मे बच्चों को वर्चुअल शिक्षा से जोड़ कर लाभान्वित किया जाए । इसके लिए क्षेत्र स्तर पर भी टीम गठन करने का प्रयास किया जा रहा हैै जिससे मोबाइल या टीवी की पंहुच से दूर बच्चों को भी क