तुम्हारी फाइलों में गांव का मौसम गुलाबी है मगर यह आंकड़े झूठे और नवाबी हैं

संवाददाता राधेश्याम गुप्ता

पॉलिटेक्निक कॉलेज में विद्युत कनेक्शन को लेकर विभाग की लापरवाही आई सामने उधर समाजसेवी चौधरी साहब अनशन के लिए कर रहे है तैयारी आपको बता दें कि अदम गोंडवी साहब का एक मशहूर शेर आपने सुना होगा तुम्हारी फाइलों में गांव का मौसम गुलाबी है मगर यह आंकड़े झूठे और नवाबी कुछ यही कहावत चरितार्थ हो रही है उतरौला के पॉलिटेक्निक कॉलेज मामले में एक तरफ जहां कॉलेज को शुरू कराने के लिए उतरौला के समाजसेवी चौधरी इरशाद ने कमर कस ली है तो वहीं दूसरी तरफ विद्युत विभाग की बहुत बड़ी लापरवाही सामने आ रही है आपको बता दें कि पॉलिटेक्निक कॉलेज निर्माण की कार्यकारी संस्था ने छह महीना पूर्व ही विद्युत विभाग को कनेक्शन के लिए पैसा जमा करा दिया था लेकिन विद्युत विभाग की फाइलें एक टेबल से दूसरे टेबल पर घूमती रही जब इस बारे में तहकीकात किया गया तो उतरौला तुलसीपुर के एक्सईएन ने बताया कि 14 तारीख को ही उन्होंने इस फाइल को टेंडर कराने के लिए पत्र भेज दिया था उधर जेई का कहना है कि उन्हें इस मामले में कोई जानकारी नहीं है अब कौन झूठ बोल रहा है कौन सही बोल रहा है यह तो जांच का विषय है अब जरा सोचिए कि एक तरफ देश के प्रधानमंत्री युवाओं को आत्मनिर्भर बनाने में लगे हुए हैं और दूसरी तरफ उनकी अधिकारी कितने लापरवाह हैं जो काम आज के 3 महीना पहले हो जाना चाहिए वह काम आज भी फाइलों में लटका हुआ है उधर अब पूरे मामले में चौधरी साहब ने बताया कि उन्होंने उ. प्र पावर कार्पोरेशन के खंड तुल्सीपुर को छत्रपति साहूजी महाराज राजकीय पाॅलीटेक्निक कालेज में धन आवंटित किया किंतु लापरवाह अफसरों ने अब तक के विद्युतीकरण नहीं किया उनके विरुद्ध जाँच करने के संबंध में पत्र लिखकर जांच की मांग की है