You are currently viewing यूपी फाइट टाइम्स समाचार पत्र की 7 वीं वर्षगांठ आयोजित

यूएफटी पेपर की 7 वीं वर्षगांठ आयोजित

 रिपोर्ट-बंशीलाल 

कौशांबी। यू एफ टी पेपर की 7 वें वर्षगांठ आयोजित की गई। इस मौके पर मुख्य अतिथि ने केक काटकर वर्षगांठ पर धन्यवाद ज्ञापित किया। यू एफ टी एवं 24 न्यूज़ चैनल और समाचार पत्र की आधारशिला 28 नवंबर 2014 को प्रबंधक सतीश गोयल ने रखी थी। गौरवपूर्ण 7 वर्ष समाचार पत्र और चैनल लोगों तक अपनी लेखनी से गरीबों की आवाज सरकार तक पहुंचा कर सातवां वर्ष पूर्ण किया। इस अवसर पर मुख्य अतिथि अपर पुलिस अधीक्षक समर बहादुर ने केक काटकर पेपर की सातवीं वर्षगांठ पर धन्यवाद ज्ञापित किया। उन्होंने पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि आज के बदलते परिवेश में अखबार और न्यूज चैनल समाज के लिए एक आईना है। समाज को हर तरह की सूचनाओं का आदान प्रदान करने के लिए एक सरल साधन है। कम पैसों में गरीबों तक सरकार की योजनाओं का लाभ पहुंच रहा है। इससे सभी तबके के लोग लाभान्वित हो रहे हैं। समाचार पत्रों के माध्यम से लोगों को सुविधाओं के संबंध में जानकारी मिलती है। समाचार पत्र के माध्यम से लोग अपनी पीड़ा अधिकारियों तक पहुंचाते हैं। समाचार पत्र एक बहुत ही सरल तरीका है। अपनी बात अधिकारियों तक पहुंचाने के लिए। वहीं पर जिला सूचना अधिकारी ने भी पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि पत्रकार एक आईना है। समाज को दर्पण की तरह दिखाने के लिए देश का चौथा स्तंभ ही एक इमानदार कडी है जो लोगों को छोटी से छोटी और बड़ी से बड़ी आपदाओं को उन तक पहुंचाता है। उन्होंने कहा कि न्यूज़ पेपर और समाचार पत्र गरीब किसानों को सरकारी योजनाओं का जन जन तक लाभ पहुंचाते हैं। पेपर के माध्यम से लोगों को योजनाओं के संचालन की जानकारी मिलती है। उन्होंने यह भी कहा कि पत्रकार साथी समाचारों को लिखकर व्हाट्सएप या पेपर पर प्रसारित करें तो ज्यादा अच्छा होता है। पत्रकार साथी दूसरे की खबरों को बिना पढ़े देखे समझे सोचे दूसरे ग्रुप में फॉरवर्ड कर देते हैं। इससे पत्रकारों की गरिमा को बट्टा लगता है। क्योंकि जिसने भी समाचार लिखा है उसने तथ्य परक समाचार लिखा है या नहीं इसकी जानकारी करना प्रत्येक खबर नबीस का दायित्व बनता है। यदि पत्रकार साथी खबरों को बिना देखे सोचे समझे पढ़े फॉरवर्ड कर देते हैं तो उन खबरों से प्रशासन और अन्य लोगों को परेशानी महसूस होती है। कभी-कभी पत्रकार लोगों का उत्पीड़न हो जाता है। जिससे समाज को बहुत परेशानी का सामना करना पड़ता है। हमारे पत्रकार साथियों को भी कहीं न कहीं परेशानी का सामना करना पड़ता है। इससे पत्रकार लोगों को आगाह करते हैं कोई भी खबर लिखने से पहले सोच समझ कर उस पर लेखनी चलाएं। जिससे समाज को एक नया संदेश मिले। इस मौके पर यूएफटी के प्रबंधक सतीश गोयल ने मुख्य अतिथि को अंग वस्त्र प्रदान कर उनका माल्यार्पण करके सम्मान किया। वहीं पर जिला सूचना अधिकारी को भी माल्यार्पण कर अंग वस्त्र देते हुए उनका सम्मान किया। इस मौके पर हिंदुस्तान के पप्पू गौतम आरपी यादव सोनेलाल रमेश चंद अकेला अरशद मामू बंसीलाल मनोज कुमार सहित दर्जनों पत्रकार मौजूद रहे हैं।