सार्वजनिक शौचालय निर्माण कार्य पुराने व पीले ईट से कराते हुए सरकारी पैसे का गमन कर रही है ग्राम प्रधान गायघाटअंजू देवी

युपी फाइट टाइम्स दैनिक समाचार-पत्र से

गोंडा जनपद के विकासखंड- छपिया अंतर्गत ग्राम पंचायत -गायघाट में विगत कई वर्षों से सरकारी पैसे को लूटने व गमन करने मे महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाली ग्राम प्रधान अंजू देवी व उसका पति पवन कुमार के द्वारा सरकारी पैसे का जमकर गमन किया गया है।
ग्राम पंचायत गायघाट के सैंकड़ों समाजसेवियों ने बताया कि कभी विद्यालय मे पढ़ने वाले बच्चों के यूनिफॉर्म खरीददारी के नाम पर तो कभी बच्चों के एमडीएम कन्वर्जनकास्ट के नाम पर इसके द्वारा भ्रष्टाचार नियमित रूप से किया गया है।मनरेगा योजना में इसके द्वारा अधिकतम सड़को का कार्य मिट्टी पटाई का कराया गया है।मौके पर सड़क की लंबाई 300 मीटर तो कागज मे एम बी ब्लॉक में तैनात आउटसोर्सिंग संविदा के जूनियर इंजीनियर द्वारा सुविधा शुल्क लेकर 500 मीटर की एमबी की गयी है।
प्रधानमंत्री आवास योजना में सबसे अधिक भ्रष्टाचार मनरेगा द्धारा आवास निर्माण हेतु दी जा रही मजदूरी के पैसे में किया गया है।मनरेगा के लाभार्थी को ग्राम पंचायत अधिकारी, रोजगार सेवक व ग्राम प्रधान द्वारा कभी यह भी नहीं बताया जाता कि आपको आवास बनाने हेतु मनरेगा से मजदूरी का भी भुगतान किया जाएगा। अपने चहेते दलालों के नाम मस्टररोल में उपस्थिति भरकर पैसा निकलवा कर अंजू देवी द्वारा रख लिया जाता है। समाजसेवियों ने बताया कि इसके द्वारा इंडिया मार्का हैंड पंप रिपेयरिंग के नाम पर प्रति वर्ष ढाई लाख रुपए से अधिक निकालकर गमन कर लिया गया है। जांच कराकर प्रधान को जेल भेजने की मांग जनता द्वारा किया गया है।
उत्तर प्रदेश सरकार व भारत सरकार की अत्यंत महत्वाकांक्षी योजना से ग्राम पंचायत में सामुदायिक शौचालय का निर्माण ग्राम प्रधान अंजू देवी व ग्राम पंचायत अधिकारी देवेश कुमार श्रीवास्तव की मिलीभगत से निर्माण कराया जा रहा है जिसमें पुराने व पीले कीट का प्रयोग करते हुए नाबालिक बच्चों से कार्य कराया रहा है जिसकी शिकायत समाधान दिवस में समाजसेवी राजीव शुक्ला,मंगला प्रसाद तिवारी,राकेश तिवारी,श्री नाथ वर्मा, दीपचंद वर्मा,अनिल पांडे आदि ने जिला अधिकारी, अपर जिला अधिकारी व खंड विकास अधिकारी से की है।
खंड विकास अधिकारी छपिया द्वारा पीले व पुरानी ईट से कराए जा रहे निर्माण कार्य को त्वरित रुकवा कर संबंधित के खिलाफ कार्रवाई करने का आश्वासन दिया है।अधिकतम ग्रामवासी ने यह भी बताया प्रधान पति पवन कुमार का पिता अयोध्या प्रसाद द्वारा भी मृतक आश्रित के नाम पर फ्रॉड करते हुए कुछ महीनों के लिए प्रधान बन बैठा था इसके द्वारा अपने कार्यकाल में भी सरकारी पैसे का गमन किया गया है समाजसेवियों के शिकायत पर ग्राम पंचायत गायघाट का बैंक खाता भी सीज हो चुका है। ऐसे भ्रष्टाचारी ग्राम प्रधान अंजू देवी व उसके पति पवन कुमार तिवारी के विरुद्ध मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश सरकार व जनपद के जिलाधिकारी से त्वरित कार्यवाही की मांग जनता द्वारा की गई है।