You are currently viewing FATEHPUR- गढा़ प्रधान के आपात्रों को पात्र बनाने वाले विकास से परेशान हैं ग्रामीण

गढा़ प्रधान के आपात्रों को पात्र बनाने वाले विकास से परेशान हैं ग्रामीण

यूपी फाइट टाइम्स
ठा. अनीष सिंह ।

विजयीपुर– विजयीपुर विकासखंड की सबसे बड़ी ग्राम पंचायत गढा़ में प्रधान की गड़बड़ झाले से ग्रामीण परेशान हैं और प्रधान के विकास कार्यों को लेकर काफी नाराज भी हैं ।
जानकारी के मुताबिक आपको बता दें कि विजयीपुर विकासखंड के ग्राम पंचायत गढ़ा में करीब आधा सैकड़ा लोग ऐसे हैं जिन्हें आज तक शौचालय योजना से दूर रखा गया है जिसको लेकर ग्रामीणों में काफी नाराजगी है और जनता प्रधान के इस झोलझाल ड्रामें से परेशान है ग्राम पंचायत गढ़ा के मजरा कहे जाने वाले नरौली में करीब दर्जनों लोगों ने मीडिया से बात करते हुए बताया कि ग्राम प्रधान द्वारा हमें अभी तक शौचालय योजना का लाभ नहीं दिया गया है और शौचालय मांगने पर प्रधान द्वारा ₹2000 की रिश्वत मांगी जा रही है वही ग्राम पंचायत गढ़ा के रहने वाले कई लोगों ने मीडिया से बात करते हुए बताया कि ग्राम प्रधान द्वारा आवास योजना में आपात्रों को पात्र बना दिया जाता है जबकि पात्रों को अपात्र बना दिया जाता है यही ग्राम प्रधान का विकास है ग्रामीणों ने मीडिया से बात करते हुए ग्राम प्रधान पर आरोप लगाते हुए बताया कि ग्राम प्रधान द्वारा आवास योजना के लिए मोटी रकम मांगी जाती है ना देने पर ग्राम प्रधान द्वारा लिस्ट से पात्रों का नाम काट दिया जाता है और पात्रों को अपात्र बना दिया जाता है जिससे हम गरीब लोगों को सरकारी योजना का लाभ नहीं मिल पा रहा है ग्रामीणों ने बताया कि ग्राम प्रधान द्वारा अपने चहेते लोगों को पात्र बना कर आवास योजना का लाभ दिया जा रहा है और हम गरीबों के पास मोटी रकम ना होने की वजह से हम प्रधान को ₹20000 की रिश्वत नहीं दे सकते इसलिए प्रधान द्वारा हमें आवास योजना से वंचित रखा गया है और अभी तक हमें आवास नहीं दिया गया है वहीं ग्रामीणों ने मीडिया से बात करते हुए बताया कि कई बार भ्रष्ट ग्राम प्रधान की शिकायत उच्चाधिकारियों से की गई लेकिन अभी तक ग्राम प्रधान पर कोई ठोस कार्यवाही ना होने से ग्राम प्रधान के हौसले और बुलंद हैं और ग्राम प्रधान अपनी मनमानी पर उतारू है जिससे गांव की जनता में काफी रोष है अब सोचने वाली बात यह है कि ऐसे भ्रष्ट प्रधानों पर सरकार कार्रवाई करने से क्यों डरती है या फिर यह सिस्टम का खेल है जो नीचे से ऊपर तक चलता है जिसमें उच्च अधिकारियों की भी मिलीभगत होती है और उस मिलीभगत की मार गरीब जनता पर पड़ती है जिससे अब गरीब जनता का विश्वास सरकार की उन वादों से उठता जा रहा है जिस पर सूबे के मुखिया योगी आदित्यनाथ बड़े बड़े वादे कर गरीब लोगों को आवास मुहैया कराने की बात कर रहे थे आज वह वादे ग्राम प्रधान के इस गड़बड़ झाले में फंसते नजर आ रहे और गरीब जनता सरकार की योजनाओं का लाभ पाने में असमर्थ दिख रही है यह ग्राम प्रधान की ही तो कृपा है जिससे गरीब जनता का विश्वास अब सरकार से उठता जा रहा है अब ऐसे ग्राम प्रधान अगर होने लगे तो शायद भगवान भरोसे ही गरीब जनता बैठ जाएगी ।