कोटेदार की अभद्रता व कम राशन देने से परेशान ग्रामीणों ने खंड विकास कार्यालय पर किया प्रदर्शन

खंड विकास अधिकारी को सौंपा शिकायती पत्र,

“””कोरोना संकटकाल के बीच सोमवार को विकास खंड शिवपुर क्षेत्र के शेखन पुरवा गांव के ग्रामीणों ने कोटेदार के खिलाफ खंड विकास कार्यालय पर प्रदर्शन किए””””

शिवपुर/बहराइच। कोरोना संकटकाल के बीच सोमवार को विकास खंड शिवपुर क्षेत्र के ग्राम पंचायत बौंडी के मजरा शेखन पुरवा गांव के ग्रामीणों ने कोटेदार के खिलाफ खंड विकास कार्यालय शिवपुर पर प्रदर्शन किए। ग्रामीणों ने कोटेदार पर कम खाद्यान्न देने व विरोध करने पर धमकी देने का आरोप लगाया। ग्रामीणों ने खंड विकास अधिकारी को शिकायती पत्र सौंपा। ग्रामीणों का आरोप है कि कोरोना संक्रमण को देखते हुए निशुल्क राशन वितरण कराने के लिए प्रशासनिक अमला लगा हुआ है जबकि बौंडी ग्राम पंचायत के मजरा शेखन पुरवा के कोटेदार। सुनील कुमार राशन वितरण के समय कार्डधारकों को चार से पांच किलो खाद्यान्न कम दे रहे है। यहीं नहीं विरोध करने पर कोटेदार व उसके साथी मारपीट पर उतारू हो जा रहे हैं।और फर्जी मुकदमे लिखवाने की धमकी भी देता हैं। ग्रामसभा में सोमवार को राशन वितरण के समय ग्रामीणों के विरोध पर हल्की फुल्की झड़प भी हुई थी।
मजबूरन हम सभी ग्रामीणों को संक्रमण के बीच खंड विकास कार्यालय पर प्रदर्शन करना पड़ रहा है। प्रशासन आरोपों की जांच कराए और संबंधित कोटेदार की दुकान को निलंबित कर नए कोटेदार का चयन कराये। प्रदर्शन के दौरान मौजूद ग्रामीणों ने खंड विकास अधिकारी वीरेंद्र कुमार यादव को शिकायती पत्र सौंपा।ग्रामीण बबलू यादव ने बताया कि कोटेदार द्वारा राशन कम दिया जाता है। कहने पर मारने व हरिजन एक्ट में मुकदमा लिखवाने की धमकी देता है।वही मोहम्मद आरिफ ने कहां की यूनिट से कम राशन देता है। 30 किलो के स्थान पर 25 किलो देता है। कहने पर वह मारपीट पर आमादा हो जाता है।अभद्रता करने के साथ गाली गलौज पर उतारू हो जाता है। सतनाम ने बताया की कोटेदार सुनील कुमार द्वारा 20 किलो राशन के स्थान पर 15 किलो राशन ही देता है। वहीं सरकार द्वारा मिलने वाला निशुल्क चना पर कार्ड 1 किलो के बजाय 800 ग्राम ही देता है। विरोध करने पर वह धमकी देता है और अपशब्द का प्रयोग कर भगा दिया करता है।इस मौके पर गांव के दर्जनों लोग मौजूद रहे।