You are currently viewing तकलीफें अभी क्या देखी हैं? एक मिनट में भगवान-परमात्मा लोगों को याद आएगा, वह समय आ रहा है -बाबा उमाकान्त जी महाराज

जयगुरुदेव
30.03.2021,
इंदौर, म.प्र.

तकलीफें अभी क्या देखी हैं? एक मिनट में भगवान-परमात्मा लोगों को याद आएगा, वह समय आ रहा है -बाबा उमाकान्त जी महाराज

उज्जैन से पधारे वर्तमान के पूरे सन्त सतगुरु बाबा उमाकान्त जी महाराज ने 30 मार्च 2021 को मुक्ति दिवस कार्यक्रम के समापन अवसर पर बाबा उमाकान्त जी महाराज आश्रम, इंदौर में सत्संग सुनाते हुये सन्देश दिया कि प्रेमियों! मन भजन पर बैठने नहीं देता। मन हो गया है गंदा, खान-पान की वजह से, शरीर पापी बना देने की वजह से, यह मन भी पापी हो गया। शरीर से पाप ही कराता है। अच्छे कर्म की तरफ जाना ही नहीं चाहता।

प्रेमियो! दवा बहुत अच्छी हो लेकिन जब तक खाओगे नहीं तो कैसे ठीक होगे?

प्रेमियों! दवा बहुत अच्छी हो लेकिन दवा जब खाओगे नहीं तो मर्ज बढ़ता जाएगा, तकलीफ़ बढ़ती जायेगी। हल्की-फुल्की तो बर्दाश्त कर लोगे लेकिन जब ऑपरेशन की नौबत आएगी तब परेशान हो जाओगे। इसलिए अभी समय है। अभी तकलीफ क्या देखा है? तकलीफ तो अभी आगे आएंगी। एक मिनट में भगवान-परमात्मा लोगों को याद आएगा, वह समय आ रहा है।

प्रेमियों! गुरु और गुरु की बातों को भूलकर दुनिया को और दुनिया की बातों को याद करोगे तो गुरु कहां तक मदद करेंगे?

महाराज जी ने कहा कि आप बहुत से लोग गुरु महाराज के नामदानी हो। आप कहोगे गुरु ही सब कुछ है। गुरु ही हमारा उद्धार करेंगे, रक्षा करेंगे। ऐसा कुछ नहीं है। गुरु मदद तो करेंगे जब गुरु की बातों को याद रखोगे। गुरु को भूल कर के दुनिया की बातों को याद करोगे, दुनिया के हिसाब से चलोगे, दुनिया के बीच में जब खान-पान करोगे और उठना-बैठना रहेगा, आचार और व्यवहार वैसा रहेगा तो गुरु कितना मदद करेंगे।

प्रेमियों! ध्यान, भजन और खान-पान, चाल-चलन सही करे बिना काम बनने वाला नहीं है

महाराज जी ने कहा कि इस चीज को आप समझो सब लोग। ध्यान, भजन, सिमरन के बिना, खान-पान, चाल-चलन सही किए बिना – कुछ काम बनने वाला नहीं है। इसलिए इस बात का ध्यान रखो सब कि संगत की रीति-नीति के मुताबिक हमको चलना है।

अगर गुरु की बात नहीं मानोगे तो कुदरत की चपेट में आ जाओगे तो फिर गुरु को दोष न देना, न परमात्मा को दोष देना

महाराज जी ने कहा कि देखो प्रेमियों! अगर दुनिया के हिसाब से आप चलोगे तो जैसे दुनिया के लोग ठोकर खाएंगे, मार खाएंगे, ऐसे आप भी मार खाओगे, बीमारियां, ओला-पत्थर गिरेगा, जब क्षतिग्रस्त दृष्टि होगी, जब धरती हिलेगी तो उसके चपेट में आ जाओगे। फिर गुरु को दोष मत देना। न तो गुरु को दोष देना और न उस परमात्मा को दोष देना। यह तो गलती आपकी मानी जाएगी।

प्रेमियों! जानकर जो गलती करता है उसको सख़्त सजा मिलती है

महाराज ने कहा कि इसलिए जो जानकार, समझदार होते हैं, आप को, विशेष रूप से शहर के लोगों को इन चीजों पर ध्यान देने की जरूरत है। जो अनजाने में गलती हो जाती है उसकी माफी भी हो जाती है लेकिन जो जान करके गलती करता है उसको सख्त सजा मिलती है। इस चीज को सब लोगों को, पूरे संगत के लोगों को इस बात को ध्यान में रखने की जरूरत है ।

जयगुरुदेव

परम सन्त बाबा उमाकान्त महाराज,
आश्रम इंदौर, म.प्र.