यूपी फाइट टाइम्स से पल-पल की खबर
………………………..
बलरामपुर के उतरौला विधानसभा आपको बता दे कि उतरौला के पूर्व विधायक आरिफ अनवर हाशमी पर प्रशासन का लगातार शिकंजा कसता जा रहा है कहा जा रहा है कि राज्य में योगी सरकार है इस लिए हाशमी पर शिकंजा कसा जा रहा है लेकिन पर्दे के पीछे की बात की जाएं तो सूत्र बताते हैं कि योगी जी के पुराने चेले ज्ञानचंद सोनी पूरी तरह से सक्रिय है आपको बता दें कि ज्ञानचंद सोनी और पूर्व विधायक अनवर हाशमी की अदावत बहुत पुरानी है सादुल्लाह नगर जिला पंचायत की राजनीति में दोनों सक्रिय रहते हैं और एक दूसरे के धुर विरोधी है जहां ज्ञान चंद सैनी हिंदू युवा वाहिनी के कर्मठ कार्यकर्ता रह चुके हैं और योगी जी के पुराने चेलों में शुमार हैं वही अनवर हाशमी भी समाजवादी पार्टी के कई बड़े नेताओं के चहेते है आपको बता दें कि दोनों में तकरार उस समय शुरू हुई जब जिला पंचायत चुनाव में ज्ञान चंद सोनी ने अपनी माता जी को उतार कर पूर्व विधायक को चुनौती देने का काम शुरू किया इतना ही नहीं अनवर हाशमी की प्रधानी की परंपरागत सीट पर भी सोनी ने अपनी माता का परचा भराकर पूर्व विधायक को चुनौती देने का प्रयास किया लेकिन हाशमी के रसूख के आगे उनकी माता का पर्चा खारिज हो गया आपको बता दें कि उस दौर में एक और सबसे जिसमें अनवर हाशमी को चुनौती देने का प्रयास किया था वह है पीस पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष जिन्होंने पूरे जिला प्रशासन को चैलेंज करते हुए सोनी की माता का परचा भराने के लिए अपने समर्थकों के साथ रेहरा ब्लॉक में पहुंच गए यहां पर दोनों पक्षों के बीच में जमकर नारेबाजी व टकरार हुई थी हालात को काबू में पाने के लिए जिलाधिकारी बलरामपुर को पूरे जिले की पुलिस लागानी पड़ी थी हलांकि यह टकरार कुछ समय तक चला लेकिन अगर बात करें सोनी की तो सोनी का विरोध हाशमी के खिलाफ जारी रहा जिससे नाराज होकर सपा कार्यकाल में पूर्व विधायक हाशमी ने सोनी और उनके समर्थकों पर दर्जनों मुकदमे दर्ज करा दिये जिससे सोनी के हित मित्र अनिल श्रीवास्तव सहित कई लोगों मे जाना पड़ा लेकिन कहा जाता है कि ऊपर वाले का पहिया घूमता रहता है और इंसान का समय बदलता रहता है और अब यह पहिया पूरी तरह से घूम चुका है और अब गेद पूरी सोनी के पाले में आ चुकी है क्योंकि उनके गुरु मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ प्रदेश की सबसे बड़ी कुर्सी पर विराजमान है सूत्रों की माने तो हाशमी साहेब पर शिकंजा उसी दिन कस गया था जब गोरखनाथ मंदिर में सोनी ने अपने गुरु से इंसाफ की गुहार लगाई थी अब चूंकि आदेश हाईकमान का है इसलिए बलरामपुर पुलिस भी पूरी तरह से सक्रिय है जैसे-जैसे सबूत मिलते जा रहे हैं हाशमी साहब पर शिकंजा कसता जा रहा है