बिना आदेश के तहसीलदार ने ग्रामीण के घर की गिरवाई दीवार

शिवम् चौहान कानपुर

तहसील नर्वल के ग्राम गाजीपुर में ग्रामीण पवन सिंह के घर के बाहर बनी दीवार को तहसीलदार विनीत कुमार ने गिरवा दी
पीड़ित ने बताया कि मौके पर दीवार गिरवाने पहुँचे तहसीलदार ने उनके बुजुर्ग पिता जी से अभद्रता भी की है।
मामला तहसील नर्वल के गांव गाजीपुर का है जहाँ पर करीब 20 वर्ष पूर्व लगें सरकारी हैंडपंप को लेकर विवाद शुरू हुआ और मामला दो परिवारों के वर्चस्व तक पहुँच गया ।
लेकिन आश्चर्य तो तब हुआ जब नर्वल तहसीलदार विनीत कुमार अपने पूरे दम बल के साथ भयंकर बारिश में गाजीपुर गांव पहुँचे और बिना किसी पूर्व नोटिस के नल के पास बनी दीवार को गिरवाने लगें ।
जब पीड़ित के परिजनों ने आदेश मांगा तो तहसीलदार विनीत कुमार ने पीड़ित के बुजुर्ग पिता जो कि सरकारी सेवानिवृत्त है उनको धक्का देते हुए अभद्रता करने लगे और उनसे बोले कि ज्यादा मत बोलो वरना जेल भिजवा देगे।
ग्रामीणों के मुताबिक तहसीलदार विनीत कुमार ने दीवार गिराने से कुछ मिनटों पूर्व ही दीवार में एक कागज चिपकाया और कुछ ही देर बाद उनके साथ आये कर्मचारियों ने दीवार गिराना शुरू कर दिया ।
अब सवाल ये उठता है कि बिना किसी पूर्व सूचना के तहसीलदार ने किसके आदेश पर दीवार गिरवाई और वहाँ पर चिपकाए गए नोटिस में किसी भी अधिकारी के हस्ताक्षर या मोहर क्यो नही लगी ।
मौके पर ग्रामीणों को मिली नोटिस में ग्राम प्रधान रंजना सिंह व सचिव के हस्ताक्षर और मोहर लगी हुई थी ,किसी अधिकारी के नही ।
वहीं इस मामले की जानकारी के लिए जब तहसीलदार से बात करने की कोशिश की तो तहसीलदार ने फोन तक नहीं उठाया।